Breaking

LightBlog

Friday, December 28, 2018

DIABETES

मधुमेह

                            आज विश्व के लगभग 60% लोग मधुमेह रोग से ग्र्सित है। डायबिटीज मेलेटस (डीएम), जिसे सामान्यतः मधुमेह कहा जाता है, चयापचय संबंधी बीमारियों का एक समूह है जिसमें लंबे समय तक उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है।
             मधुमेह खराब जीवनशैली के कारण उत्पन्न एक खतरनाक रोग है। मानव के शरीर मे शर्करा का मान सीमा से उपर हो जाने पर मधुमेह रोग हो जाता है। इसे ENGLISH मे DIABETES कहते है। 

diabiteses
    --  खाली पेत(फ़ास्टिग) के दौरान यदि खून मे शुगर की मात्रा >125 mg\dl से अधिक पाई जाए तो यह मधुमेह होने का चिन्ह है।
   -- खाना खाने के दो घन्टे बाद शुगर की मात्रा >145 mg\dl से अधिक पाई जाए तो यह भी मधुमेह होने का चिन्ह है।

मधुमेह के कारण है या तो अग्न्याशय  पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता या शरीर की कोशिकायें इंसुलिन को ठीक से जवाब नहीं करती।

       मधुमेह के चार मुख्य प्रकार हैं:
diabities for man hiuman
  • टाइप 1 डीएम पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने के लिए अग्न्याशय की विफलता का परिणाम है। इस रूप को पहले "इंसुलिन-आश्रित मधुमेह मेलाईटस" (आईडीडीएम) या "किशोर मधुमेह" के रूप में जाना जाता था। इसका कारण अज्ञात है 
  •  टाइप 2 डीएम इंसुलिन प्रतिरोध से शुरू होता है, एक हालत जिसमें कोशिका इंसुलिन को ठीक से जवाब देने में विफल होती है। जैसे-जैसे रोग की प्रगति होती है, इंसुलिन की कमी भी विकसित हो सकती है।[4] इस फॉर्म को पहले "गैर इंसुलिन-आश्रित मधुमेह मेलेतुस" (एनआईडीडीएम) या "वयस्क-शुरुआत मधुमेह" के रूप में जाना जाता था। इसका सबसे आम कारण अत्यधिक शरीर का  वजन होना और पर्याप्त व्यायाम न करना है।
  • गर्भावधि मधुमेह इसका तीसरा मुख्य रूप है और तब होता है जब मधुमेह के पिछले इतिहास के बिना गर्भवती महिलाओं को उच्च रक्त शर्करा के स्तर का विकास होता है। 
  • सेकेंडरी डायबिटीज इस प्रकार की डायबिटीज इलाज करने मात्र से ही सही हो सकती है जैसे की कुछ दवाईओं को बंद करने से, पिट्यूटरी  ग्लैंड का ट्यूमर का इलाज करने से।


इसके लिए इन्हें खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। 45 मिनट से 1 घंटा तीव्र गति से पैदल चलना या अन्य कोई भी व्यायाम करना चाहिए। सही समय पर दवाई या इंसुलिन लेना चाहिए। व्यक्ति को अपने वजन व लंबाई के अनुसार प्रस्तावित कैलोरीज से 5 प्रश कम कैलोरी का सेवन करना चाहिए।

No comments:

Post a Comment

Adbox